15 August 2018

Share
HAPPY INDEPENDENCE DAY

जो भरा नहीं है भावों से
बहती जिसमें रसधार नहीं
वह हृदय नहीं है पत्थर है
जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं

धन्य ये धरा नहीं जहाँ हमने जन्म लिया 
अपितु 
धन्य तो हम हैं जो हमे इसकी सेवा करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ